Ku App

कू और जन की बात के ‘आत्म निर्भर भारत’ की पहल को बढ़ावा देने के लिए किया गठबंधन

माइक्रो-ब्लॉगिंग मंच ‘कू’ हर रोज़ भारतीय दर्शकों को ट्रेंडिंग ख़बरों पर अपनी राय और विचारों को व्यक्त करने के लिए आगे बढ़ाने और प्रोत्साहित करने के लिए जन की बात के साथ अपनी साझेदारी की घोषणा करता है।

साझेदारी के भाग के रूप में प्रदीप भंडारी कू पर आपकी राय जानने के लिए के चुनावों को चलायेंगे। चुनाव विश्लेषण पर नवीनतम अपडेट पोस्ट करेंगे और कू पर फ़ालोअर्ज़ को चुनावों पर अपने विचार और राय व्यक्त करने में सक्षम बनायेंगे । आपको बंगाल, तमिलनाडु और अन्य राज्यों में होने वाले चुनावों के बारे में जो भी जानने की जरूरत है, वह प्रदीप भंडारी द्वारा कू पर साझा किया जाएगा। इस चुनावी वर्ष में कू मंच के माध्यम से ‘जन की बात’ क्षेत्रीय भाषाओं में बातचीत शुरू करेगा और एजेंडा निर्धारित करके भारतीय राजनीति और भारतीय चुनावों पर तथ्यात्मक, शिक्षाप्रद, जमीनी विश्लेषण के आंकड़ों के आधार पर कथा को आकार देगा ।  

कू की स्थापना मार्च 2020 में हुई । यह एक माइक्रो ब्लॉग्गिंग प्लेटफार्म है। मतलब यह की लोग यहाँ सिमित शब्दों में अपने विचार रख सकते है ।भारत देश में केवल10 फिसदी लोग ही अंग्रेजी में निपुण है। बाकी 90 फिसदी अपने क्षेत्रीय भाषा का प्रयोग करने में ही सहज है । इंटरनेट में इन लोगो के लिए अपने विचार रखने के लिए उनकी भाषा में कोई प्लेटफार्म नहीं है ।कू इन्ही सबके लिए एक प्लेटफार्म बन के उभरी है ।





Live TV

Breaking News


Loading ...