China India relations

एससीओ के माध्यम से मजबूत हो सकते हैं चीन-भारत संबंध

पिछले कुछ समय से चीन और भारत के संबंध तनावपूर्ण बन गये हैं, जिसकी सबसे बड़ी वजह 2020 का सीमा संघर्ष है। इससे दोनों देशों के विश्वास और सद्भावना को गहरी ठेस पहुंची है। यद्यपि, दो बड़े देशों के बीच विवाद और मतभेद होना, स्वाभाविक बात है। लेकिन इन मतभेदों को लंबे समय तक पाले रखना न तो दोनों देशों के हित में है, बल्कि एशिया, यहां तक कि पूरे विश्व के लिए भी हितकारी नहीं है।

हालांकि, चीन और भारत दोनों ही देश आतंकवाद और अलगाववाद से उत्पन्न क्षेत्रीय सुरक्षा और स्थिरता की चुनौतियों से चिंतित हैं। एससीओ (शांगहाई सहयोग संगठन) ने अतिवाद, अलगाववाद, और आतंकवाद को संबोधित करते हुए क्षेत्रीय सुरक्षा की रक्षा के लिए बातचीत पर विशेष जोर दिया, जो इस क्षेत्र, विशेष रूप से अफगानिस्तान में एक बड़े खतरे का प्रतिनिधित्व करते हैं।

2004 में ताशकंद में स्थापित एससीओ क्षेत्रीय आतंकवाद विरोधी संरचना ने संयुक्त आतंकवाद विरोधी अभ्यास किया, आतंकवाद विरोधी अभियानों के लिए एक डेटाबेस बनाया, और चरमपंथियों के प्रत्यर्पण में सहायता की। क्षेत्रीय आतंकवाद विरोधी सहयोग चरमपंथी तत्वों की क्षमताओं, गतिविधियों और तस्करी के विकल्पों को कम कर सकता है।

एससीओ चीन, भारत, और मध्य एशियाई देशों के बीच सहयोग के माध्यम से क्षेत्रीय स्थिरता और सुरक्षा को सुविधाजनक बनाने के लिए एक व्यवहार्य ढांचा प्रदान करता है। यह एशिया की एकता और उत्थान के लिए आवश्यक है, जिसके लिए चीन और भारत दोनों ही आकांक्षा रखते हैं। जाहिर है, क्षेत्र में शांति और स्थिरता के लिए चीन और भारत के बीच सहयोग जरूरी है।

देखा जाए तो साझा विकास और सामान्य समृद्धि की "शांगहाई भावना" और एससीओ ढांचा क्षेत्रीय और द्विपक्षीय मुद्दों को संबोधित करने और चीन और भारत के बीच आर्थिक सहयोग सुनिश्चित करने में उपयोगी रहा है। एससीओ के मार्गदर्शक सिद्धांतों में संप्रभुता का पारस्परिक सम्मान, स्वतंत्रता, राज्यों की क्षेत्रीय अखंडता और राज्य की सीमाओं की अनुल्लंघनीयता, गैर-आक्रामकता, आंतरिक मामलों में गैर-हस्तक्षेप, बल का प्रयोग न करना या अंतरराष्ट्रीय संबंधों में इसके उपयोग की धमकी, सभी सदस्य राज्यों की समानता, और सदस्य राज्यों के बीच विवादों का शांतिपूर्ण समाधान शामिल हैं। 

दोनों देश विभिन्न संधियों और प्रस्तावों के माध्यम से वर्षों से इन मूल्यों को विकसित करने के लिए समर्पित रहे हैं। एससीओ के उद्देश्यों और लक्ष्यों में सदस्य राज्यों के बीच आपसी विश्वास और समाजशीलता को मजबूत करना, राजनीति, व्यापार और अर्थव्यवस्था में प्रभावी सहयोग को बढ़ावा देना, क्षेत्र में शांति, सुरक्षा और स्थिरता बनाए रखना, और संयुक्त रूप से आतंकवाद का मुकाबला करना, अवैध नशीले पदार्थों और हथियारों से लड़ना शामिल है। 

शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व के पांच सिद्धांतों की भावना में तस्करी, और एक लोकतांत्रिक, निष्पक्ष और तर्कसंगत नई अंतरराष्ट्रीय राजनीतिक और आर्थिक व्यवस्था का निर्माण करना, जिसकी वकालत 1950 के दशक से की गई है। यदि चीन और भारत इन उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए एससीओ भावना का पालन करते हैं, तो जरूर एक सहकारी और पारस्परिक रूप से लाभप्रद संबंध बनेंगे। 
(अखिल पाराशर, चाइना मीडिया ग्रुप, बीजिंग)


Live TV

-->

Loading ...