Italian economist

डब्ल्यूटीओ में चीन के प्रवेश से विश्व अर्थव्यवस्था में आया गहरा बदलाव: इतालवी अर्थशास्त्री

इस वर्ष विश्व व्यापार संगठन(डब्ल्यूटीओ) में चीन के शामिल होने की 20वीं वर्षगांठ है। पिछले 20 वर्षों में चीन के आर्थिक विकास में विश्व के ध्यानाकर्षक उपलब्धियां हासिल हुई हैं और चीन दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था, सबसे बड़ा माल व्यापारिक देश और विदेशी निवेश हासिल करने वाल देश बन गया है। 

इस बारे में इटली स्थित रोम के द्वितीय विश्वविद्यालय के अर्थशास्त्र के असिसटेंट प्रोफेसर एंड्रिया अपोलोनी ने एक साक्षात्कार में कहा कि डब्ल्यूटीओ में शामिल होने के बाद चीन की वैश्विक आर्थिक विकास में औसत वार्षिक योगदान दर लगभग 30 प्रतिशत है। चीन विश्व अर्थव्यवस्था के लिए महत्वपूर्ण विकास इंजन है। इससे न केवल चीन का भारी विकास हुआ बल्कि विश्व अर्थव्यवस्था में काफी बदलाव आया है। 

अपोलोनी ने कहा कि डब्ल्यूटीओ में चीन के प्रवेश ने न केवल चीन के आर्थिक विकास को बढ़ावा दिया, बल्कि वैश्विक अर्थव्यवस्था को भी बहुत परिवर्तित किया है, जो वैश्विक आर्थिक विकास के लिए काफी महत्वपूर्ण है। चीन में मध्य वर्ग का पैमाना अब दुनिया में सबसे बड़ा है। चीन दुनिया के 120 से अधिक देशों और क्षेत्रों का सबसे बड़ा व्यापारिक साझेदार है। यह कहा जा सकता है कि यह वैश्विक व्यापार का एक बहुत ही सकारात्मक बदलाव है।

वर्तमान में विश्व आर्थिक बहाली महामारी, मुद्रास्फीति और आपूर्ति श्रृंखला की कमी जैसे कई अनिश्चित कारकों का सामना कर रहा है। एकतरफावाद और संरक्षणवाद डब्ल्यूटीओ के मूल सिद्धांतों का गंभीरता से उल्लंघन करते हैं। चीन हमेशा बहुपक्षीय व्यापार प्रणाली का दृढ़ता से समर्थन करता है और व्यापार और निवेश की सुविधा को बढ़ावा देता है। अपोलोनी ने कहा कि कई चीनी कंपनियां जो अंतरराष्ट्रीय सहयोग करती हैं, विश्व अर्थव्यवस्था की बहाली को बढ़ावा देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगी। 
(साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)

Live TV

-->

Loading ...