Capt Amarinder Singh, Manpreet Badal

निष्ठा जांचने के लिए कैप्टन ने 2 हिस्सों में बुलाई मंत्रियों की बैठक

चंडीगढ़: पंजाब के सरकारी मुलाजिमों को छठे वेतन आयोग की सिफारिशों का लाभ देने के लिए बुलाई प्रीकैबिनेट मीटिंग को मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने एक सधी हुई रणनीति के तहत 2 हिस्सों में बांट दिया। पहली बैठक में मुख्यमंत्री से नाराज चल रहे मंत्रियों को बुलाया गया, जबकि दूसरी मीटिंंग में CM के नजदीकी मंत्रियों को मौका दिया गया। बताया जाता है कि कैप्टन शुक्रवार को होने वाली कैबिनेट की बैठक में सभी मंत्रियों की मौजूदगी के प्रति अश्वस्त होना चाहते थे। दोनों बैठकों में कैबिनेट मंत्री रजिया सुल्ताना को छोड़कर सभी मंत्री शामिल हुए। कैबिनेट मंत्रियों और मुख्यमंत्री कैप्टन के बीच छिड़े विवाद के बाद यह पहली बैठक थी, जिसमें सभी मंत्री फिजीकली हाजिर हुए क्योंकि इससे पहले कै बिनेट की बैठक वर्चुअली हो रही थी।

बैठक में आयोग की सिफारिशों को लागू करने और मुलाजिमों को 1 जुलाई से इसका लाभ देने पर विचार-विमर्श हुआ। वित्तमंत्री मनप्रीत बादल पहले ही एक जुलाई से मुलाजिमों को इसका लाभ देने का ऐलान कर चुके हैं, लेकिन कुछ तकनीकि दिक्कतों को दूर करने के लिए बैठक बुलाई गई थी। समझा जाता है कि शुक्रवार को होने वाली कैबिनेट की बैठक में इस संबंधी एजैंडा आ सकता है। मुख्यमंत्री कैप्टन ने आज 2 हिस्सों में मंत्रियों की बैठक बुला कर स्पष्ट संकेत दिए कि कैबिनेट के सदस्य उनके साथ हैं और फिलहाल किसी प्रकार का विवाद नहीं है।

Live TV

-->

Loading ...