Tibetan culture

तिब्बती संस्कृति से गहराई से जुड़ा है बौद्ध धर्म

तिब्बती बौद्ध धर्म तिब्बत में अधिकांश लोगों द्वारा माना जाने वाला धर्म है और तिब्बती पारंपरिक संस्कृति का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। तिब्बती लोगों ने लंबी ऐतिहासिक प्रक्रिया के दौरान विशेष लोक रीति-रिवाजों और रहन-सहन की आदतों का निर्माण किया है। तिब्बत की शांतिपूर्ण मुक्ति के बाद से, चीन सरकार तिब्बत में विभिन्न जातीय लोगों के धार्मिक विश्वास और जातीय रीति-रिवाजों की स्वतंत्रता को बहुत महत्व देती है और उनका पूरा सम्मान करती है। चीन प्रभावी ढंग से पारंपरिक तिब्बती संस्कृति के रूप में तिब्बती बौद्ध धर्म की रक्षा करता है। 

धार्मिक अनुयायियों की धार्मिक आस्था की जरूरतों को पूरा करने के लिए,चीन ने धार्मिक मंदिरों और सांस्कृतिक अवशेषों की उचित सुरक्षा के लिए प्रभावी उपाय किए हैं। चीन ने पोताला पैलेस, जोखांग मठ, डेपुंग मठ, सेरा मठ, गदेन मठ, ताशिलहुनपो मठ, शाक्य मठ और धार्मिक गतिविधियों के कई अन्य स्थानों को देश और स्वायत्त क्षेत्र में प्रमुख सांस्कृतिक अवशेष संरक्षण इकाइयों के रूप में शामिल किया है। इसके अलावा, हर साल रख-रखाव के लिए बड़ी मात्रा में विशेष धन आवंटित किया जाता है। 

सामान्य धार्मिक गतिविधियों और धार्मिक विश्वासों को कानून के अनुसार संरक्षित किया जाता है। तिब्बत स्वायत्त प्रदेश और 7 क्षेत्रों और शहरों ने बौद्ध संघों की स्थापना की है। चीन के बौद्ध संघ की तिब्बत शाखा तिब्बत बौद्ध कॉलेज, तिब्बती शास्त्र मुद्रण संस्थान और तिब्बती पत्रिका "तिब्बती बौद्ध धर्म" चलाती है। चीन ने तिब्बती भाषा उन्नत बौद्ध अकादमी की स्थापना की, जो तिब्बती बौद्ध धर्म में वरिष्ठ प्रतिभाओं को विकसित करने में निपुण है। तिब्बत में 100 से अधिक जीवित बुद्ध और प्रख्यात भिक्षु ने संस्थान में आगे का अध्ययन किया।

तिब्बत में धार्मिक गतिविधियां समृद्ध और रंगारंग हैं। पिछली शताब्दी के 8वें दशक से, तिब्बत ने विभिन्न प्रकार के 40 से अधिक धार्मिक त्योहारों को फिर से मनाना शुरू किया है। धार्मिक लोग हर साल विभिन्न धार्मिक गतिविधियों में स्वतंत्र रूप से भाग लेते हैं। 

सुधार और खुलेपन की नीति लागू होने से चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की केंद्रीय समिति ने धर्म के संरक्षण और रख-रखाव पर कई प्रणालियों और विनियमों को प्रख्यापित किया है, जो समाजवादी आधुनिकीकरण के लिए एक मजबूत गारंटी प्रदान की गई है। तिब्बत में तिब्बती बौद्ध धर्म के जोरदार विकास ने तिब्बती समाज की दीर्घकालिक स्थिरता को बढ़ावा दिया है और राष्ट्रीय एकता और सामाजिक स्थिरता की सेवा करके तिब्बती धर्म के विकास पथ की रक्षा की है।
(साभार---चाइना मीडिया ग्रुप ,पेइचिंग)


Live TV

-->

Loading ...