JP Nadda

उत्तराखंड में विधानसभा चुनावों से पहले JP Nadda ने कहा, कांग्रेस और कमीशन, एक ही सिक्के के दो पहलू

सवाड़ (उत्तराखंड) : उत्तराखंड में विधानसभा चुनावों से पहले भाजपा अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने सोमवार को कांग्रेस और कमीशन को एक ही सिक्के के दो पहलू बताते हुए कहा कि जहां कांग्रेस है, वहां कमीशन है और जहां भाजपा है, वहां मिशन है । मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के साथ चमोली जिले के सैनिक बाहुल्य गांव सवाड़ से ‘शहीद सम्मान यात्र’ की शुरुआत करने के बाद एक जनसभा को संबोधित करते हुए नड्डा ने कांग्रेस पर हमला करते हुए कहा कि 2014 में नरेंद्र मोदी के सत्ता में आने के पहले 20 साल से किसी भी फौजी उपकरण की खरीद नहीं की गयी क्योंकि कांग्रेस के राज में बिना कमीशन के रक्षा सौदा नहीं होता।

उन्होंने कहा, ह्लरक्षा का सौदा हो और कोई कमीशन न हो। बिना कमीशन के कांग्रेस । कांग्रेस और कमीशन एक ही सिक्के के दो पहलू हैं। जहां कांग्रेस है, वहां कमीशन है और जहां एनडीए है, मोदी साहब हैं, भाजपा है, वहां मिशन है। नड्डा ने कहा कि आज हमारे बेड़े में 36 राफेल जहाज, 28 अपाचे हेलीकॉप्टर, 15 चिनूक हेलीकॉप्टर, 145 होवित्जर तोप जुड़ चुके हैं, पांच लाख एके-203 असाल्ट राइफल मिल चुकी हैं और 1.86 लाख बुलेट प्रूफ जैकेट भारतीय सेना को दी जा चुकी है। उन्होंने कहा, ह्लयह बताता है कि फौजियों के साथ अगर कोई खड़ा है तो वह भारत का प्रथम सेवक मोदी है। भाजपा अध्यक्ष ने दशकों तक वन रैंक वन पेंशन (ओआरओपी) के मुद्दे पर पूर्व सैनिकों को गुमराह करने के लिए भी कांग्रेस की आलोचना की और जनता से आगामी विधानसभा चुनावों में उसे मुंहतोड़ जवाब देने को कहा। 

उन्होंने कहा कि ओआरओपी के मसले पर कांग्रेस ने 1972 से लेकर 2014 तक फौजियों को गुमराह किया और जब उनकी सरकार जाने लगी तो 2013 में तत्कालीन वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने बजट में 500 करोड रुपये देकर कहा कि हम आपकी मांग मान लेंगे। नड्डा ने कहा कि यह बस एक शगुन था अगर उनकी (कांग्रेस की) सरकार आती तो यह शगुन वहीं रह जाता लेकिन 2014 में मोदी सरकार ने 42 हजार करोड रुपये देकर इसे लागू कर दिया । उन्होंने कहा कि उत्तराखंड के एक लाख 16 हजार पूर्व सैनिकों सहित देश भर के करीब 20.6 लाख फौजियों ने इसका लाभ लिया । 

भाजपा अध्यक्ष ने कहा, जीता समाज वह होता है जो अच्छे काम के लिए शाबाशी दे और जिसने आपको गुमराह किया, उसे मुंहतोड़ जवाब दे। मुझे विश्वास है कि सवाड़ गांव जीता जागता गांव है जो फौजियों की इज्जत को ध्यान में रखेगा। ‘शहीद सम्मान यात्र’ के बारे में उन्होंने कहा कि आज से लेकर सात दिसंबर तक लगभग 1734 वीर शहीदों के आंगन से मिट्टी उठाकर देहरादून में बनने वाले सैन्य धाम तक पहुंचाई जाएगी। उन्होंने जनता से आह्वान किया कि इस यात्र का हर जगह भव्य स्वागत करें और सुनिश्चित करें कि अपनी जवानी और ज़िंदगी देश के नाम करने वाला कोई भी वीर सपूत सम्मान से अछूता न रहे। नड्डा उत्तराखंड के दो दिवसीय दौरे पर हैं और इस दौरान वह अल्मोड़ा और रूद्रपुर भी जाएंगे। 


 


Live TV

-->

Loading ...