बसंत पंचमी, मां सरस्वती जी

Basant Panchami : बसंत पंचमी पर इसलिए की जाती है मां सरस्वती जी की पूजा,जानिए आप भी

जैसे के हम सब जानते है के इस साल बसंत पंचमी का त्यौहार 16 फरवरी को आ रहा है। बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती जी की पूजा अर्चना की जाती है। बसंत पंचमी का त्यौहार संगीत और शिक्षा से जुड़ा हुआ है। खास तौर पर मां सरस्वती जी की पूजा की जाती है। लेकिन क्या आप जानते है के इस दिन मां सरस्वती जी की पूजा क्यों की जाती है। तो आइए जानते है :

बसंत पंचमी शुभ मुहूर्त
पंचांग के अनुसार बसंत पंचमी शुभ मुहूर्त निकाला जाता है. इस बार 16 फरवरी को सुबह 03 बजकर 36 मिनट पर पंचमी तिथि आरंभ होगी और इसका समापन 17 फरवरी को सुबह 5 बजकर 46 मिनट पर होगा.

मां सरस्वती की पूजा की करने की मान्यता
मां सरस्वती को ज्ञान की देवी माना जाता है. मान्यता है कि माघ मास की शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को मां सरस्वती ब्रह्माजी के मुख से प्रकट हुईं थी और इसीलिए इस तिथि को बसंत पंचमी का पर्व मनाया जाता है. ज्ञान की देवी होने और इस तिथि को प्रकट होने की वजह से मां सरस्वती की पूजा की जाती है. बसंत पंचमी मां सरस्वती की पूजा करने से ज्ञान में वृद्धि होती है और उनका आर्शीवाद मिलता है. ज्ञान से सभी प्रकार के अंधकार को दूर हो जाते हैं.

बंसत पंचमी के दिन क्या भोग लगाएं
इस दिन के लिए पीले रंग का विशेष महत्व माना गया है. बंसत पंचमी के दिन पीले फूल, पीले मिष्ठान अर्पित करना शुभ माना जाता है. माना जाता है कि भगवान विष्णु को पीला रंग बहुत प्रिय है. इस दिन पीले वस्त्र पहनने और भेंट करने चाहिए.

Live TV

Breaking News


Loading ...