BJP MLA Banda Agricultural University uttar pradesh

BJP MLA ने बांदा कृषि विवि में हुईं नियुक्तियों पर उठाए सवाल, कहा- आरक्षण रोस्टर नियमों का नहीं हुआ पालन

कोरोना महामारी के बीच उत्तर प्रदेश में नया विवाद खड़ा हो गया है। एक बीजेपी विधायक ने जातिवाद के मुद्दे पर योगी सरकार को कटघरे में खड़ा कर दिया है। दरअसल, बांदा कृषि विश्वविद्यालय में प्रोफेसर के पद पर बड़ी संख्या में एक जाति विशेष के लोगों की नियुक्तियां की गई हैं। विश्वविद्यालय ने 20 प्रवक्ताओं की भर्तियां निकाली थीं, जिसमें 18 सामान्य वर्ग और 2 EWS कोटे की थीं। इसका रिजल्ट 1 जून को घोषित किया गया था। विश्वविद्याय ने 15 पदों पर भर्तियां की हैं। इनमें से 11 पदों पर सामान्य वर्ग में एक ही जाति विशेष यानी ठाकुर समुदाय लोगों का चयन किया गया है। इसके अलावा बाकी 4 पदों में से एक OBC, एक अनुसूचित जाति, एक भूमिहार और एक मराठी समुदाय के लोगों को चुना गया है। अब विवाद का कारण 15 प्रवक्ताओं में 11 ठाकुर समुदाय की भर्तियां करने का है। 

बांदा के तिंदवारी विधानसभा सीट से बीजेपी विधायक बृजेश प्रजापति ने पीएम नरेंद्र मोदी, राज्यपाल आनंदी बेन पटेल, सीएम योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर मामले की शिकायत की है। उन्होंने पत्र लिखा बांदा कृषि विश्वविद्यालय में जो प्रवक्ता के पद पर नियुक्त की गई है, उसमें आरक्षण रोस्टर नियमों का अनुपालन नहीं किया गया है। वहीं दूसरी तरफ मामले में सफाई पेश करते विश्वविद्यालय ने कहा कि यह भर्तियां इंटरव्यू के आधार पर की गई है।

Live TV

Breaking News


Loading ...