MLA Indra Pratap Tiwari

Ayodhya: फर्जी Marksheet मामले में MLA Indra Pratap Tiwari को 5 साल की सजा

अयोध्या (उत्तर प्रदेश) : गोसाईगंज सीट से भाजपा विधायक इंद्र प्रताप तिवारी को 29 साल बाद फर्जी मार्कशीट केस में एम.पी.-एम.एल.ए. कोर्ट ने दोषी करार देते हुए 5 साल की सजा सुनाई। 29 साल पहले साकेत महाविद्यालय में अंकपत्र व बैक पेपर में कूट रचित दस्तावेज के सहारे धोखाधड़ी व हेराफेरी करने के मामले में विधायक के साथ ही छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष व सपा नेता फूलचंद यादव और चाणक्य परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष कृपा निधान तिवारी को भी कोर्ट ने दोषी माना और 5-5 साल की सजा और 13-13 हजार रुपए का जुर्माना लगाया। सजा के बाद विधायक और 2 अन्य दोषियों को जेल भेज दिया गया। 

महाविद्यालय के तत्कालीन प्राचार्य यदुवंश राम त्रिपाठी ने 3 लोगों के खिलाफ फर्जी मार्कशीट के आधार पर एडमिशन लेने का मुकदमा दर्ज करवाया था। आरोपी फूलचंद यादव ने बी.एससी. प्रथम वर्ष की परीक्षा 1986 में अनुत्तीर्ण रहने और बैक पेपर परीक्षा के उपरांत भी बी.एससी. द्वितीय वर्ष में प्रवेश लिया था।  इसके लिए उन्होंने फर्जी अंक पत्र का सहारा लिया था। 

इसी तरह इंद्र प्रताप तिवारी उर्फ़ खब्बू तिवारी बी.एससी. द्वितीय वर्ष परीक्षा 1990 में अनुत्तीर्ण होने के बावजूद बी.एससी. तृतीय वर्ष और कृपा निधान तिवारी ने प्रथम वर्ष 1989 में एल.एल.बी. प्रथम वर्ष में अनुत्तीर्ण होने के बावजूद छल-कपट कर एल.एल.बी. द्वितीय वर्ष में प्रवेश प्राप्त कर लिया। इन तीनों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था। 

Live TV

Breaking News


Loading ...