#Anganwadi Centers #Child Health #Omicron #Jai Ram Thakur #LatestNews #DainikSaveraNews #DainikSaver

मातृ-शिशु स्वास्थ्य को लेकर आंगनबाड़ी केंद्रों में चलेगा जागरूकता अभियान : जयराम

शिमला : सूबे में बाल कुपोषण की समस्या से निजात पाने की कवायद तेज हो गई है। सरकार पोषण ट्रैकर पर 5 लाख 99 हजार 643 लाभार्थियों को पंजीकृत कर रही है। मातृ-शिशु स्वास्थ्य को लेकर जागरुगता अभियान प्रदेश में जागरूकता अभियान चलाया जाएगा। अभियान के लिए 18 हजार 925 आंगनबाड़ी कार्यकत्ताओं को प्रशिक्षित किया जाएगा। पोषण और सहकारी संघवाद विषय पर नीति आयोग की टीम के साथ आयोजित कार्यशाला काे संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने यह बात कही। नीति आयोग की टीम का नेतृत्व आयोग के सदस्य स्वास्थ्य डा. वीके पॉल कर रहे थे। 

उन्होंने कहा कि अति कुपोषित एवं मध्यम कुपोषित बच्चों के प्रबंधन के लिए हिमाचल प्रदेश राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन और महिला एवं बाल विकास विभाग के सहयोग से एक मानक संचालन प्रक्रिया तैयार की गई है। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने पोषण व सहकारी संघवाद विषय पर नीति आयोग की टीम के साथ आयोजित बैठक की अध्यक्षता करते हुए यह बात कही। नीति आयोग की टीम का नेतृत्व आयोग के सदस्य डा. वीके पॉल कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि 15वें वित्त आयोग ने हिमाचल प्रदेश में कांगड़ा हवाई अड्डे के विस्तार और उन्नयन के लिए 400 करोड़, मंडी जिला में ग्रीन फील्ड हवाई अड्डे के निर्माण के लिए एक हजार करोड़ रुपए की राशि की अनुशंसा की है। साथ ही ज्वालामुखी मंदिर के लिए पेयजल और मल निकासी योजना के सुधारीकरण के लिए 20 करोड़ रुपए की अनुशंसा की है।

उन्होंने कहा कि राज्य में रेल विस्तार के लिए भू-अधिग्रहण सबसे बड़ी चुनौती है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने विद्युत वाहन नीति तैयार की है। इसका मकसद हिमाचल को विद्युत गतिशीलता विकास और इलेक्ट्रिक वाहनों के निर्माण में वैश्विक केंद्र बनाने और विद्युत चालित वाहनों के लिए सार्वजनिक एवं निजी चार्जिंग आधारभूत संरचना तैयार की जा सके। इसके लिए विद्युत चालित वाहन निर्माता उद्योगों को अनुदान और प्रोत्साहन भी दिया जाएगा। इस अवसर पर हैंडबुक ऑन पर्सनल मैटर्ज-2021 का अद्यतन संस्करण जारी किया गया।

ओमिक्रॉन वेरिएंट से निपटने के दिए सुझाव 

कार्यशाला के बाद पत्रकारों से अनौपचारिक बातचीत में मुख्यमंत्री ने कहा कि नीति आयोग के साथ आयोजित कार्यशाला में ओमिक्रॉन वेरिएंट से निपटने के सुझाव दिए गए। उन्होंने कहा कि कोविड-19 से निपटने के लिए टीकाकरण अभियान पर फोकस करना जरूरी है। उन्होंने इस बात पर संतोष जताया कि राज्य ने वैक्सीन की दूसरी डोज लगाने में भी लक्ष्य को प्राप्त कर लिया है। जयराम ठाकुर ने कहा कि हिमाचल ने मातृ एवं शिशु को बेहतर पोषण प्रदान करने का लक्ष्य प्राप्त कर देश में अग्रणी बनकर उभरा है। 

इसके अलावा विभिन्न विभागों के माध्यम से ई- गवर्नेस के क्षेत्र में कई पहल लागू की गई है। उन्होंने कहा कि पब्लिक अफेयर्स सैंटर, बंगलुरू ने हिमाचल को वर्ष, 2017 और 2018 में छोटे और पहाड़ी राज्यों की श्रेणी में सुशासन में प्रथम स्थान और वर्ष 2019 में द्वितीय स्थान पर आंकते हुए इसे मान्यता दी है। उन्होंने विश्वास जताया कि नीति आयोग की टीम हिमाचल प्रदेश से जुड़े मसलों को शीघ्र हल करेगा।

सुशासन सूचकांक के तहत संबंधित उपायुक्तों को दिए पुरस्कार

मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर सुशासन सूचकांक के तहत संबंधित उपायुक्तों को पुरस्कार प्रदान किए। सुशासन सूचकांक में हमीरपुर जिला प्रथम, बिलासपुर जिला द्वितीय एवं कुल्लू जिला तृतीय स्थान पर रहा। हिमाचल प्रदेश सरकार केआर्थिक एवं सांख्यिकी विभाग द्वारा जिला सुशासन सूचकांक पर रिपोर्ट तैयार की गई है। यह रिपोर्ट सभी के तुलनात्मक प्रदर्शन का आंकलन करने के लिए 7 विषयों, 19 केंद्रित विषयों और 75 संकेतकों पर एकत्रित 12 जिलों के सेकेंडरी डेटा के आधार पर तैयार की गई है। हिमाचल देश का पहला राज्य हैं, जिसने महत्वपूर्ण क्षेत्रों में सुशासन की गुणवत्ता का आंकलन करना शुरू किया है।



Live TV

-->

Loading ...