Chinese Economy

प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं में आगे, चीनी अर्तव्यवस्था लगातार बहाल हो रहा है

चीन सरकार द्वारा 16 अप्रैल को जारी आंकड़ों के अनुसार, प्रारंभिक लेखांकन से पता चला है कि इस वर्ष पहली तिमाही में चीनी सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में तुलनीय कीमतों पर गत वर्ष की समान अवधि से 18.3 प्रतिशत की वृद्धि हुई। बेशक, यह इस वर्ष में चीनी अर्थव्यवस्था के लिए एक शुभारंभ है। अब चीनी अर्थतंत्र स्थिर रूप से बहाल हो रहा है और मजबूत लचीलापन दिखाया जा रहा है। चीनी अर्थव्यवस्था विश्व की प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं में आगे रही है। 

जीडीपी आंकड़े के अलावा, चीन के अन्य प्रमुख आर्थिक सूचकांक भी उल्लेखनीय है, जिनकी दो अंक की वृद्धि हुई है। चीनी अर्थतंत्र में उपभोग को आधारशिला माना जाता है। पहले तीन महीनों में सामाजिक उपभोक्ता वस्तुओं की कुल खुदरा बिक्री में गत वर्ष की समान अवधि की तुलना में 34.2 प्रतिशत की वृद्धि हुई, जो पहले रायटर द्वारा किए गए 28 प्रतिशत पूर्वानुमान से अधिक थी।

इस उपलब्धि की प्राप्ति चीन सरकार के घरेलू मांग के विस्तार और उपभोग के संवर्धन वाली नीति से अलग नहीं किया जा सकता। इसके साथ ही, नागरिकों की आय में बढ़ोतरी से खर्च करने की शक्ति स्थिर रूप से बढ़ी है, उपभोग के माहौल में लगातार सुधार से नागरिकों का आत्मविश्वास बढ़ा है।

चीन दुनिया में उपभोक्ता वस्तुओं का सबसे बड़ा खुदरा बाजार बनने वाला है। इसकी अप्रत्याशित बहाली, खासकर आयात की मांग और बहुराष्ट्रीय कंपनियों द्वारा निवेश की मांग, निस्संदेह वैश्विक अर्थव्यवस्था की बहाली के लिए एक बड़ा लाभ है।  

चीन की आर्थिक बहाली व्यापार चैनलों, कच्चे माल, उपभोक्ता वस्तुओं और तैयार उत्पादों की मांग आदि के माध्यम से दुनिया के बाकी क्षेत्रों में सकारात्मक प्रभाव डाल रही है। अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने अपनी ताजा रिपोर्ट में चीन की इस साल की आर्थिक वृद्धि के अनुमान को 8.1 प्रतिशत से 8.4 प्रतिशत तक बढ़ा दिया है।

वर्तमान में चीनी आर्थिक विकास स्थिति से देखा जाए, विश्वास किया जा सकता है कि दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था ठीक होती रहेगी और वैश्विक आर्थिक पुनरुत्थान को ज्यादा सकारात्मक ऊर्जा प्राप्त होगी।
( साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग )


Live TV

-->

Loading ...