American famous film director

अमेरिकी प्रसिद्ध फिल्म निर्देशक ने अमेरिका के लोकतंत्र शिखर सम्मेलन की आलोचना की

अमेरिका ने 9 से 10 दिसंबर तक वीडियो के माध्यम से तथाकथित लोकतंत्र शिखर सम्मेलन आयोजित करने की योजना बनायी। इस बात पर अमेरिकी प्रसिद्ध फिल्म निर्देशक ओलिवर स्टोन ने "रूस टुडे" टीवी स्टेशन को दिये इन्टरव्यू में कहा कि अमेरिका तथाकथित लोकतंत्र शिखर सम्मेलन से विभाजन का प्रसार प्रचार करना चाहता है। और अमेरिका के लोकतंत्र का सार “पैसे की राजनीति” है।

ओलिवर स्टोन ने कहा कि अमेरिका अपने को लोकतंत्र का प्रतिनिधित्व मानता है, लेकिन वास्तव में वह अंतर्राष्ट्रीय नियमों को तोड़कर विभाजन पैदा कर रहा है। उन्होंने कहा कि मैं इस बात को नहीं समझता हूं कि अमेरिका अपने हितों के लिये मनमाने ढंग से नीति-नियमों को बर्बाद करने के साथ अपने आपको लोकतंत्र का प्रतिनिधित्व मानता है। पर यह एक वास्तविकता है। 

अमेरिका ने अपने आपको मुक्त दुनिया कहा, लेकिन चीन व रूस नहीं। और ईरान समेत सभी “बुरे लोग” विपरीत दिशा में खड़े हुए हैं। लेकिन अगर आप उक्त देशों की यात्रा की थी, तो आप ज़रूर समझते हैं कि वास्तविकता अमेरिका के मुंह से निकली बातों से अलग है। साथ ही स्टोन ने खास तौर पर अमेरिकी राजनीति में पैसे की महत्वपूर्ण भूमिका की चर्चा की। उनके अनुसार केवल 2020 में अमेरिकी राष्ट्रपति व संसद के चुनाव के लिये 14 अरब अमेरिकी डॉलर का खर्च किया गया है।
(साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)

Live TV

-->

Loading ...