America

कोरोना का प्रसार करने वाला सबसे बड़ा देश अमेरिका मानव स्वास्थ्य के लिए बड़ा खतरा

अमेरिका की आबादी विश्व की कुल आबादी का 4 प्रतिशत है ,लेकिन अब अमेरिका में कोरोना संक्रमित मामलों की संख्या पूरे विश्व का 18 प्रतिशत है ।इससे पता चलता है कि कोरोना से लड़ाई में अमेरिका की विफलता से पूरे विश्व पर गंभीर प्रभाव पड़ा है । गौरतलब है कि कोरोना नियंत्रण में अपनी हार के सामने अमेरिका सरकार ने सीमा एक्जिट प्रबंधन पर कोई प्रभावी कदम नहीं उठाया ,जो समग्र विश्व की जनता की स्वास्थ्य के लिए एक बड़ा खतरा है ।

अर्थव्यवस्था और वोट के ख्याल से अमेरिका सरकार ने पिछले साल के अगस्त यानी महामारी के प्रसार के पीक में अमेरिकी नागरिकों के लिए विदेश-यात्रा का प्रतिबंध हटा दिया ।इसके चलते महामारी तेजी से विश्व में फैलने लगी ।

इसके अलावा अमेरिका सरकार ने अंतर्राष्ट्रीय नैतिकता की उपेक्षा कर कोरोना की रोकथाम के एहतियाती उपाय के बिना बड़े पैमाने पर गैरकानूनी इमिग्रेंट्स को वापस भेजना शुरू किया ।कई देशों ने वापस भेजे गये इमिग्रेंट्स में बड़ी संख्या के कोरोना मामले पाये ।

और चिंता की बात है कि लगभग सौ देशों में अमेरिकी सैन्य अड्डे स्थित हैं ।वहां तैनात अमेरिकी सैनिक अकसर स्थानीय कोरोना नियंत्रण के दिशा निर्देशों की उपेक्षा करते हैं ,जिससे स्थानीय लोगों में बड़ा असंतोष है ।

सिलसिलेवार तथ्यों से जाहिर है कि अमेरिका कोरोना के विश्व भर में प्रसार के लिए काफी हद तक जिम्मेदार है ,जिससे वह बच नहीं सकता ।मानवता एक साझा समुदाय है ।अगर एक ही देश में कोरोना का अंत नहीं हुआ ,तो अंतर्राष्ट्रीय समुदाय असुरक्षित होगा ।अमेरिकी राजनीतिज्ञों को कोरोना के साथ वैज्ञानिक मुकाबले के रास्ते पर लौटना चाहिए ।(साभार---चाइना मीडिया ग्रुप ,पेइचिंग)


Live TV

-->

Loading ...