After Heli in Bihar, Nitish and Tejashwi

बिहार में हाेली के बाद होंगे नीतीश और तेजस्वी में आर-पार की लड़ाई

पटना (बिहार) : राष्‍ट्रीय जनता दल के विधानसभा घेराव आंदोलन के दौरान पटना की सड़कों पर हुए उपद्रव को लेकर मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार की सरकार व विपक्षी महागठबंधन आमने-सामने दिख रहे हैं। बिहार विशेष सशस्‍त्र बल विधेयक के विरोध में विपक्ष के बिहार विधानसभा में हंगामा को लेकर भी मामला गर्माता दिख रहा है। विधानसभा घेराव मार्च के दौरान हुए उत्‍पात को लेकर पुलिस ने बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्‍वी यादव तथा उनके भाई तेज प्रताप यादव सहित 22 राजद नेताओं के खिलाफ हत्‍या की कोशिश का केस दर्ज किया है। तेजस्‍वी यादव ने कहा है कि वे इस केस में जमानत नहीं लेंगे, नीतीश कुमार  उन्‍हें गिरफ्तार कराकर जेल भेजें। राजद ने स्‍पष्‍ट कर दिया है कि होली के बाद 'आर-पार ' की लड़ाई होगी।

जिक्रयोग है कि बीते 23 मार्च को राजद ने बिहार विधानसभा घेराव की घोषणा की थी लेकिन कोरोना संक्रमण की गाइडलाइन के तहत प्रशासन ने इसकी अनुमति नहीं दी। इसके बावजूद जब राजद ने कार्यकर्त्ता व समर्थक आंदोलन के लिए सड़कों पर उतरे तो पुलिस ने उन्‍हें रोका। फिर जबरदस्‍त हंगामा हो गया। मारपीट व पथराव को रोकने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज किया। घटना के सिलसिले में तेजस्वी यादव व उनके भाई तेज प्रताप यादव सहित 22 लोगों को नामजद दोषी बनाया गया है। उनके खिलाफ हत्‍या की कोशिश का आरोप भी लगाया गया है।

आंदोलनकारियों के खिलाफ हत्‍या की कोशिश सहित अन्‍य संगीन आरोपों के तहत केस दर्ज करने से राजद में नाराजगी है। इसे लेकर बीते दिन महागठबंधन के नेताओं की बैठक राबड़ी देवी के आवास पर हुई। इस बैठक में फैसला किया गया कि अब होली के बाद सरकार के खिलाफ 'आर-पार ' वाले तेवर में आंदोलन और तेज किया जाएगा। वरिष्ठ राजद नेता श्याम रजक ने बताया कि तेजस्वी यादव, तेज प्रताप यादव, जगदानंद सिंह व अब्दुल बारी सिद्दीकी के साथ-साथ उनके खिलाफ भी केस दर्ज किया   गया है। 

Live TV

-->

Loading ...