covid Patients

आक्सीजन के लिए कोविड मरीजों को प्रोनिंग प्रक्रिया अपनाने की सलाह

गुरु ग्राम के उपायुक्त ने होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों को प्रोनिंग प्रक्रि या अपनाने की सलाह देते हुए उनके स्वास्थ्य सुधार की कामना की है। उन्होंने बताया कि यदि कोविड के मरीज घर पर ही क्वारंटाइन हैं तो प्रोनिंग प्रक्रि या के द्वारा ऑक्सीजन  के स्तर में सुधार लाया जा सकता है। जागरूकता ही इस बीमारी से लड़ने में सहायक सिद्ध होगी। उन्होंने प्रोनिंग प्रक्रि या के बारे में बताया कि कोविड-19 मरीज खुद अपनी देखभाल करके प्रोनिंग से मददगार बन सकता है। प्रोनिंग मरीज के शरीर की पोजिशन को सुरिक्षत तरीके से परिविर्तत करने की प्रक्रिया है। 

इसमें पीठ के बल लेटा हुआ मरीज जमीन की ओर मुंह करके पेट के बल लेटता है। चिकित्सा के क्षेत्र में प्रोनिंग शरीर की एक स्वीकृत अवस्था है, जो सांस लेने की प्रक्रि या को आरामदायक बनाती है औरा शरीर में ऑक्सीजन  के स्तर को बढाती है। उन्होंन बताया कि सांस लेने में तकलीफ वाले कोविड-19 मरीजों, विशेषकर होम आइसोलेशन वाले कोविड मरीजों के लिए प्रोनिंग की प्रक्रि या काफी फायदेमंद है। उन्होंने कहा कि होम आइसोलेशन के मरीजों के लिए प्रोनिंग प्रक्रि या अर्थात पेट के बल लेटने से वैंटिलेशन को बढावा मिलता है, श्वसन कोशिकाओं को खोलकर आसानी से सांस लेने में मदद मिलती है। 

इसकी आवश्यकता केवल उसी स्थिति में है, जब मरीज को सांस लेने में तकलीफ महसूस हो रही हो और उसका एसपीओ 2का स्तर 94 से नीचे चला गया हो। होम आइसोलेशन के दौरान इस प्रकार की प्रक्रिया को अपनाकर ऑक्सीजन की मात्रा को शरीर में बढ़ाया जा सकता है। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को कहा कि वे होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों को इस प्रक्रि या से अवगत कराएं और जल्द स्वास्थ्य सुधार में सहयोग करें।

Live TV

Breaking News


Loading ...