Vastu Shastra

वास्तु शास्त्र के अनुसार जानिए कैसा होना चाहिए आपके घर का बाथरूम

वास्तु शास्त्र हमारे जीवन में बहुत जरुरी है। वास्तु शास्त्र के अनुसार हमे अपने घर की वस्तुए रखनी चाहिए। माना जाता है के वास्तु शास्त्र के अनुसार अगर हमारे घर की कोई भी वस्तु वास्तु शास्त्र के अनुसार ना हो तो हमे जीवन में बहुत नुकसान होता है और बहुत सी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। आज हम आपको बताने जा रहे वास्तु शास्त्र के अनुसार हमे किस तरह का बनाना चाहिए अपना बाथरूम। 

1. अटैच लेट-बॉथ वास्तु शास्त्र के अनुसार यह ठीक नहीं होता। इससे चंद्र ग्रहण दोष, आपसी मनमुटाव, द्वेष की भावना, घटना-दुर्घटना बढ़ना और धन की हानी होने लगती है।

2. स्नानघर या बाथरूम में किसी भी तरह की तस्वीर नहीं लगाना चाहिए।

3. बाथरूम में उचित दिशा में एक छोटासा दर्पण होना चाहिए।

4. स्नानघर में मनी प्लांट लगाना अच्‍छा होता है।

5. स्नानघर में वास्तुदोष दूर करने के लिए नीले रंग के मग और बाल्टी का उपयोग करना चाहिए।

6. वास्तु शास्त्र के प्रमुख ग्रंथ विश्वकर्मा प्रकाश में अनुसार ‘पूर्वम स्नान मंदिरम’ अर्थात भवन के पूर्व दिशा में स्नानगृह होना चाहिए।

7. बाथरूम में पानी का बहाव उत्तर-पूर्व में रखेंगे तो अच्छा होगा।

8. फेंगशुई के अनुसार बाथरूम में कुछ नकारात्मक ऊर्जा निकलती है इस नकारात्मक ऊर्जा को कम करने का आसान उपाय है कि एक आकर्षक कटोरे में साबुत नमक की डलियां भरकर रखें।

9. बाथरूम की दीवारों का रंग सफेद, क्रीम या स्काई ब्लू रंग का होना चाहिए।

10. बाथरूम में हवा और सूर्य के प्रकाश के उचित रास्ते होना चाहिए।

11. बाथरूम के दरवाजे या वेंटिलेशन उत्तर या पूर्व दिशा में होने चाहिए।

12. बाथरूम में लोहे की जगह लकड़ी के दरवाजे लगवाएं।

13. बाथरूम के दरवाजे हमेशा बंद रहने चाहिए क्योंकि इसे खुला रखने से घर में नकारात्मक उर्जा का संचरण होता है।

Live TV

Breaking News


Loading ...