रुद्राक्ष की माला

लाल किताब के अनुसार जानिए किन लोगो को नहीं पहननी चाहिए रुद्राक्ष की माला

रुद्राक्ष की माला बहुत ही शुद्ध और अच्छी मानी जाती है। साधु संत इसे अपने गले और हाथों में पहनते है। माना जाता है के इसे पहनने से बहुत से दुखो से निजात मिलता है। लेकिन आज कल बहुत से लोग रुद्राक्ष की माला पहनने लगे है। लेकिन क्या आप जानते है के रुद्राक्ष की माला हर किसी को सही नहीं होती। माना जाता है के कुछ लोगो को रुद्राक्ष की माला नहीं पहननी चाहिए। तो आइए जानते है के किन लोगो को नहीं पहननी चाहिए रुद्राक्ष की माला। 

1. गले या हाथ में बगैर सोचे-समझे पहनने से आपके मस्तिष्क में परिवर्तन तो होता ही है साथ ही आपके रक्तचाप में भी बदलावा आ सकता है। हो सकता है कि इससे धीरे-धीरे आपकी बैचेनी बढ़ रही हो। आपको इसके असर का उसी तरह पता नहीं चलता है जिस तरह की काले या मटमेले रंग के कपड़े पहनने के असर का पता नहीं चलता है।

2. लाल किताब के अनुसार कलाई पर, अंगुलियों में या गले में कोई सी भी धातु को बहुत ही सोच समझ कर पहनना चाहिए यह आपके लिए घातक भी सिद्ध हो सकती है। लाल किताब के अनुसार गला हमारा लग्न स्थान होता है और गले में पहनने से हमारा हृदय और फेफड़े प्रभावित होते हैं। हृदय की धड़कने धीमी पड़ने या और तेज चलने लगती है यह निर्भर करता है कि आपने गले में क्या पहना रखा है।

3. रुद्राक्ष की माला किसी ज्योतिष से पूछकर ही पहनें। यह आपके रक्तचाप को कंट्रोल या अनकंट्रोल कर सकती है।

4. यह माला सर्वकल्याणकारी, मंगल प्रदाता एवं आयुष्यवर्द्धक है अत: इसे पहने के लिए आपना शुद्ध और पवित्र बने रहना भी जरूरी है।

5. रुद्राक्ष की माला श्रद्धा से पहनने वाले इंसान की आध्यात्मिक तरक्की होती है। पद्म पुराण, शिव महापुराण अनुसार इसे पहनने वाले को शिवलोक मिलता है। यही कारण है कि साधु संत इसे पहनते हैं।

6. जो व्यक्ति शराब पीता है, मांस भक्षण करता है या किसी भी प्रकार के बुरे कार्य करता है उसे यह माला नहीं पहनना चाहिए।

7. बगैर सिद्ध किए या असली रुद्राक्ष की जांच किए बगैर रुद्राक्ष की माला नहीं पहनना चाहिए।

8. मूल रूप में रुद्राक्ष की माला आध्यात्मिक क्षेत्र में उन्नती की चाह रखने वालों के लिए होती है। यदि आप सांसारिक लोभ में डूबे हुए हैं तो यह माला पहनने का आपको कोई लाभ मिलेगा या नहीं यह पक्का नहीं है।

9. यह माला सामान्यत: सभी मंत्रों के जप के लिए उपयोगी मानी गई है। सांसारिक लोग जप हेतु इसका उपयोग कर सकते हैं। रुद्राक्ष की माला से भगवान शंकर के सभी मंत्रों का जप किया जाता है जो तुरंत ही सिद्ध हो जाते हैं।

10. प्रत्येक राशि और ग्रहों के अनुसार रुद्राक्ष की माला अलग अलग होती है। किसी ज्योतिष से पूछकर ही रुद्राक्ष की माला धारण करें। उदाहरणार्थ पांचमुखी रुद्राख मेष, धनु, मीन, लग्न के जातकों के लिए अत्यन्त उपयोगी माना गया है।

Live TV

Breaking News


Loading ...