500 beds , treatment

प्रदेश में कोरोना संक्रमितों के उपचार के लिए बढ़ेंगे 500 बैड : जयराम

शिमला : प्रदेश में लगातार बढ़ रहे कोरोना संक्रमितों की संख्या के मद्देनजर सरकार ने उपचार का आधारभूत ढांचा मजबूत करने की कवायद तेज कर दी है। शिमला जिले में कोरोना संक्रमितों के लिए 500 और बैड की सुविधा उपलब्ध करवाने के निर्देश मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने अधिकारियों को दिए हैं, जिनमें से 300 बैड आईजीएमसी के नए ओपीडी ब्लॉक में होंगे। आयुर्वेदिक अस्पताल छोटा शिमला व नागरिक अस्पताल जुन्गा में 50-50 बैड की सुविधा होगी। साथ ही टूटीकंडी स्थिति आईएसबीटी पार्किग में 100 बैड की व्यवस्था की जाएगी। 500 बैड की अतिरिक्त व्यवस्था को चरणबद्ध तौर पर विकसित किया जाएगा। बुधवार को शिमला जिला में कोविड-19 की स्थिति की समीक्षा करते मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने अधिकारियों को बैड की संख्या बढ़ाने निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि जिला में कोविड-19 मामलों में तेजी से वृद्धि होने की स्थिति में मरीजों के लिए बिस्तरों की कमी नहीं होनी चाहिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि बाहरी राज्यों से जिले में आने वाले सभी लोग ऑनलाइन पोर्टल के माध्यम से संबंधित अधिकारियों को इसकी जानकारी दें। 

बाहरी राज्यों से प्रदेश में आने वालों की जानकारी संबंधित क्षेत्रों के आशा वर्करों और स्वास्थ्य कार्यकत्र्ताओं से भी साझा करने के निर्देश भी मुख्यमंत्री ने दिए। उन्होंने कहा कि इससे होम क्वारंटाइन नियमों का प्रभावशाली तरीके से पालन किया जा सकेगा। उन्होंने कहा कि रोहड़, रामपुर बुशैहर के खनेरी और ठियोग नागरिक अस्पतालों की बिस्तरों को क्षमता को बढ़ाने के प्रयास किए जाने चाहिए। उन्होंने कहा कि किसी भी विपरीत स्थिति का सामना करने के लिए शिमला शहर या के निकटवर्ती स्थान पर प्री फेबरिकेटिड 200 बिस्तरों की अतिरिक्त सुविधा उपलब्ध करवाने के भी प्रयास किए जाए।  
मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना की पहलीऔर दूसरी खुराक के मध्य अंतर को कम करने के लिए प्रभावशाली प्रणाली विकसित की जानी चाहिए। विशेष रूप से स्वास्थ्य और अग्रिम पंक्ति के कार्यकत्र्ताओं को दूसरी खुराक के लिए विशेष अभियान चलाया जाना चाहिए। जयराम ठाकुर ने कहा कि लोगों को सादे विवाह आयोजनों के लिए प्रेरित किया जाना चाहिए। विवाह आयोजनों के लिए स्वीकृति प्रदान करते समय आयोजन के समय का भी निर्धारण किया जाना चाहिए, ताकि कार्यक्रम पूरे दिन न चले। स्थानीय निर्वाचित संस्थाओं को प्रदेश सरकार द्वारा जारी मानक संचालन प्रक्रियाओं और दिशानिर्देशों का पालन सुनिश्चित करना चाहिए। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में ऑक्सीजनए उपकरणों और दवाओं की कोई कमी नहीं है। प्रदेश सरकार रोहडू और रामपुर के अस्पतालों में ऑक्सीजन संयंत्र स्थापित करने पर विचार कर रही है ताकि क्षेत्र के लोगों को सुविधा मिल सके। उन्होंने कहा कि निगरानी और होम आइसोलेशन प्रणाली को सुदृढ़करने के लिए प्रयास किए जाने चाहिए।

Live TV

-->

Loading ...