black fungus

आईजीएमसी में ब्लैक फंगस पीड़ित 2 रोगियों की मौत

कोरोना के बाद हिमाचल में यूक्रो माइकोसिस अर्थात ब्लैक फंगस भी घातक साबित होने लगा है। प्रदेश के प्रमुख चिकित्सा संस्थान आईजीएमसी में ब्लैक फंगस से पीड़ित दो युवाओं ने दम तोड़ दिया है। मृतकों में सोलन जिला के कसौली से एक 49 साल के युवा के साथ-साथ हमीरपुर जिला के नादौन से तालुक रखने वाला 38 वर्षीय युवा शामिल है। आईजीएमसी के वरिष्ठ चिकित्सा अधीक्षक डा. जनक राज ने ब्लैक फंगस से मृत्यु की पुष्टि की है। 

उन्होंने बताया कि दोनों मृतक मधुमेह रोग से पीड़ित थे। ब्लैक फं गस उनके ब्रेन तक पहुंच गया था। हमीरपुर के मरीज को बीते दिन ही आईजीएमसी लाया गया था। कसौली के रहने वाले युवक का यहां उपचार चल रहा था। उल्लेखनीय है कि प्रदेश में ब्लैक फंगस का पहला मामला 22 मई को सामने आया था। हमीरपुर की रहने वाली 52 वर्षीय महिला में ब्लैक फंगस के लक्षण पाए जाने के बाद उसे उपचार के लिए आईजीएमसी भेजा गया। महिला का अभी अस्पताल में उपचार चल रहा है। 

इसके अलावा आईजीएमसी में ब्लैक फंगस पीड़ित दो और रोगियों को हमीरपुर से रैफर किए गए हैं। हालांकि मरीजों में फंगस की पुष्टि उनके कल्चरल और बायोप्सी टैस्ट के बाद हो पाएगी। बताया जा रहा है कि दोनों मरीजों की आंखों केपास सूजन है। लिहाजा चिकित्सक इन का सीटी स्कैन भी करवा रहे हैं। दोनों रोगियों के कोरोना पॉजिटिव होने की वजह से उन्हें अलग से आइसोलेशन वार्ड में दाखिल कर उपचार किया जा रहा है। अब तक आईजीएमसी में इस तरह के तीन मामले सामने आ चुके हैं। इसके अलावा टांडा मैडीकल कॉलेज में भी ब्लैक फंगस पीड़ित दो रोगियों का उपचार हो रहा है। 

Live TV

-->

Loading ...